श्री कलराज मिश्र ने सूक्ष्म, लघु तथा मझौले उद्यमों (एनबीएमएसएमई) के राष्ट्रीय बोर्ड की 13वीं बैठक में स्टार्टअप इंडिया विषय पर लघु उद्योग समाचार पत्रिका का विमोचन किया

केन्द्रीय सूक्ष्म, लघु तथा मझौले उद्यम मंत्री श्री कलराज मिश्र की अध्यक्षता में आज यहां सूक्ष्म, लघु तथा मध्यम उद्यमों (एनबीएमएसएमई) के राष्ट्रीय बोर्ड की 13वीं बैठक हुई। बैठक में सूक्ष्म, लघु तथा मझौले उद्यम राज्य मंत्री श्री गिरिराज सिंह भी उपस्थित थे।

राष्ट्रीय बौर्ड की बैठक में श्री कलराज मिश्र ने स्टार्टअप विषय पर लघु उद्योग समाचार जनवरी, 2016 का विमोचन किया। इस अवसर पर श्री मिश्र ने कहा कि लघु उद्योग समाचार में भारत सरकार के स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया, मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया कार्यक्रमों पर फोकस किया जाएगा। लघु उद्योग समाचार का अगला अंक यानी फरवरी, 2016 का अंक मेक इन इंडिया विषय पर होगा।



केन्द्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मझौले उद्यम मंत्री श्री कलराज मिश्र एमएसएमई के लिए 13वीं राष्ट्रीय बोर्ड की बैठक को संबोधित करते हुए।




श्री कलराज मिश्र एमएसएमई पर प्रकाशित द्वीभाषी मासिक पत्रिका लघु उद्योग समाचार का विमोचन करते हुए। साथ मैं हैं सूक्ष्म, लघु एवं मझौले उद्यम राज्य मंत्री श्री गिरिराज सिंह, सचिव श्री अनुप के. पुजारी तथा अपर सचिव श्री सुरेन्द्र नाथ त्रिपाठी।

बोर्ड ने उद्योग आधार को लोकप्रिय बनाने, स्टार्टअप के लिए ढांचा बनाने, आसान ऋण उपलब्धता प्रणाली विकसित करने, बाजार संपर्क को प्रोत्साहित करने तथा एएसपीआईआरई और एसएफयूआरटीआई जैसे नए प्रयासों के प्रचार पर विशेष बल के साथ सूक्ष्म, लघु एवं मझौले क्षेत्र के विभिन्न पहलुओं की चर्चा की।

श्री कलराज मिश्र ने क्षेत्र के समग्र विकास के लिए मंत्रालय द्वारा शुरू किए गए कार्यक्रमों की चर्चा करते हुए कहा कि मंत्रालय भारत सरकार के मेक इन इंडिया कार्यक्रम का प्रमुख आधार बनने जा रहा है। मेक इन इंडिया का उद्देश्य प्रधानमंत्री के “स्टार्टअप इंडिया स्टैंडअप इंडिया” कार्यक्रम के साथ सहजता से कारोबार करना है। मंत्रालय इनक्यूबेशन, क्लस्टरिंग, ऋण गारंटी और कौशल विकास निर्देशित कार्यक्रम के माध्यम से काम करेगा।

सूक्ष्म, लघु एवं मझौले राज्य मंत्री श्री गिरिराज सिंह ने ग्रामीण जनता के उत्थान के लिए सूक्ष्म, लघु एवं मझौले उद्यम क्षेत्र को विकसित करने की आवश्यकता पर बल दिया।

एमएसएमई सचिव श्री अनुप के. पुजारी ने सरलीकरण की विभिन्न प्रक्रियाओं के माध्यम से स्पर्धा और उत्पादकता बढ़ाकर पारिस्थितिक तंत्र बनाने पर बल दिया। उन्होंने उद्योग आधार की प्रारंभिक सफलता का जिक्र किया और इसे लोकप्रिय बनाने की आवश्यकता पर बल दिया। अपर सचिव तथा राष्ट्रीय बोर्ड के सदस्य सचिव श्री सुरेन्द्र नाथ त्रिपाठी ने क्षेत्र की महत्वपूर्ण भूमिका की चर्चा की और विचार-विमर्श में भाग लेने वालों का धन्यवाद ज्ञापन किया। उन्होंने आशा व्यक्त की कि भविष्य में बोर्ड के सदस्य नीति बनाने वालों की सहायता के लिए मूल्यवान सुझाव देंगे।
PIB

Follow by Email