Rail Budget LIVE - HINDI


NOTE - FOR LATEST UPDATE - REFRESH THE PAGE.....

Live updates:



01.11 PM:- रेलवे और गर्वर्नमेन्ट के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए एक प्रोजेक्ट शुरू किया जाएगा। इंजीनियरिंग स्टूडेंट के लिए इंटर्नशिप की नई व्यवस्था की जाएगा।


01.10:हम 7 मिशन शुरू कर रहे हैं। अगले पांच सालों के लिए मिशन रफ्तार शुरू होगा। एलआईसी 1.5 लाख करोड़ इन्वेस्ट करेगा।
01.09 PM:मिशन रफ्तार के तहत मालगाड़ियों की रफ्तार औसतन बढ़ाई जाएगी।
01.07 PM:चेन्नई में इंडिया का पहला ऑटो हब।
01.06 PM:पीपीपी मॉडल में लॉजिस्टिक्स पार्क बनाया जाएगा। टर्मिनल क्षमता के लिए रेल साइड लॉजिस्टिक पार्क और वेयर हाउस बनाया जाएगा।
01.05 PM:चार महीने में इसे लेकर डिटेल पॉलिसी सामने आएगी। कंटेनर ट्रैफिक को बढ़ाया जाएगा। माल यातायात में राजस्व में आधार के विस्तार की जरूरत है।
01.03 PM:कोलकाता में मेट्रो काम जारी है। सभी ईस्ट-वेस्ट का पहला चरण पूरा किया जा चुका है। दिल्ली में पॉल्यूशन का दबाव है।

01.02 PM:पैसेंजर्स के टच में रहने वाले इम्प्लॉइज की बदलेगी ड्रेस। मुंबई दो सबअर्बन स्टेशन बढ़ाए जा रहे हैं। चर्चगेट-विवार और सीटी से पनवले के बीच कॉरिडोर। 
01.01 PM:स्टेशनों के सुंदरीकरण पर फोकस। तीर्थ स्थल अमृसर, नाशिक, विशाखापट्नस, पुरी, वाराणसी, वास्को। कुलियों को सॉफ्ट स्किल के तहत लाया जाएगा।
12.58 PM:2 हजार स्टेशनों पर रेल डिस्प्ले नेटवर्क होगा। मनोरंजन के लिए गाड़ियों में एफएम रेडियो स्टेशन।
12.56PM:कस्टमर की जरूरत के मुताबिक, काम होगा। कस्टमर से जुड़ी सभी सर्विस को रिफॉर्म किया जाएगा। जीपीएस बेस्ड सिस्टम लगेगा।
12.54PM: स्मार्ट सवारी डिब्बे को बनाने की योजना। न्यू स्मार्ट कोच कस्टमर की जरूरत के मुताबिक होंगी।
12.53PM:जरूरी दवाएं और मिल्क भी मिल सकेगा। एससी और एसटी के लिए नई व्यवस्थाएं की जा रही हैं। महिलाओं के लिए भी खास अरेंजमेंट किए जा रहे हैं।
12.50PM:13 हजार बॉयोटॉयलेट्स बनाए जाएंगे। आईआरसीटीसी ई-कैटरिंग सर्विस भी देखेगी। यह ऑप्शनल होगा। इसके लिए किचन बेहतर किए जाएंगे।
12.48PM: हर तत्काल काउंटर पर सीसीटीवी लगे होंगे। एसएमएस के जरिए क्लीन करवाए जा सकेंगे कोच।
12.46PM:टिकट कैंसिलेशन 139 के जरिए भी किया जा सकेगा।
12.43PM:इस साल 20 फीसदी कम एक्सीडेंट हुए। लेकिन हम इस हालत को और सुधारने की कोशिश कर रहे हैं। इसके लिए जापान और साउथ कोरिया से मदद ली जा रही है।
- 44 प्रोजेक्ट पर काम होगा। 5300 किलोमीटर नई लाइन तैयार की जाएगी। 

12.40PM:हमसफर एसी कोच होगा। तेजस और उदय में भी स्पेशल फेसेलिटी होंगी। डबल डेकर नाइट ट्रेन चलाई जाएंगी।
12.38PM:6 राज्यों के साथ एमओयू साइन किए गए हैं। रेलवे इनके साथ ज्वाइंट वेंचर लगाएगी।
12.37PM:बड़ोदरा में रेलवे यूनिवर्सिटी बनाएंगे।
12.35PM:400 स्टेशनों को निजी भागीदारी से डेवलप किया जाएगा।
12.34PM:यात्रियों की शिकायत के लिए नई फोन लाइन (182) शुरू होगी। 311 स्टेशनों पर सीसीटीवी सिक्युरिटी।
12.33PM:- 17 हजार बायो टॉयलेट इस साल के अंत में लगेंगे। पहला बायो वैक्यूम टॉयलेट डिब्रूगढ़ राजधानी में लगेगा।
12.32 PM:पैसेंजर ट्रेन की रफ्तार बढ़ाई जाएगी। महिलाओं की सुरक्षा पर खास ध्यान दिया जाएगा। हमने 65 हजार बर्थ नई तैयार की हैं। इनका नॉन एसी कम्पार्टमेंट में यूज किया जाएगा।
12.30PM:- नई लोकोमोटिव फैक्ट्री लगाने के लिए 40 हजार करोड़ रुपए का बजट है। ट्रेनों के टाइम पर न चलने की शिकायत कई सालों से है। 
- इसके लिए कई बातें जिम्मेदार हैं। कई बार आंदोलनों और हड़तालों का असर भी ट्रेनों के टाइम पर न चलने के लिए जिम्मेदार होता है। 

12.29PM:- हम वन टाइम रजिस्ट्रेशन टिकट का अरेंजमेंट कर रहे हैं। 400 और स्टेशनों पर वाई-फाई की सर्विस बढ़ाई जा रही है। 
- हबीबगंज के अलावा चार और स्टेशनों को री-डेवलप किया जाएगा।
12.28PM:सोशल मीडिया का इस्तेमाल रोजाना के काम में ट्रांसपेरेंसी लाने के लिए किया जाएगा। ई टेंडरिंग प्रोसेस और पेपरलैस वर्क का काम तेज किया जाएगा। हमने जोनल रेलवे से कई कॉन्ट्रेक्ट किए हैं ताकि टारगेट्स को पूरा किया जा सके।
12.27PM:- हर जोन से काम को लेकर दो रिपोर्ट मांगी गई हैं। इंटरनल ऑडिट के प्रोसेस को सख्ती से लागू किया जाएगा। पिछले इलाकों को रेलवे से जोड़ने की कोशिश होगी। 44 नए प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं। इसके लिए प्राइवेट और पब्लिक सेक्टर की मदद ली जाएगी।
12.26PM:रेलवे में सभी पदों के ऑनलाइन भर्ती। जालंधर-ऊधमपुर मार्ग का काम जोरों पर।
12.25PM:2020 तक बड़ी लाइनों के लक्ष्य को पूरा करने की कोशि‍श।
12.23PM:हम इंस्टीट्यूशनल फाइनेंस के जरिए अपनी स्कीम्स को फंड मुहैया कराने की दिशा में काम कर रहे हैं। हम अगले साल 2 हजार किलोमीटर नई लाइन बनाने पर काम कर रहे हैं।
12.20PM:2010 तक जनता जब चाहेगी तब टिकट ले सकेगी। नारगोल पोर्ट को कनेक्ट किया जाएगा। 

12.18PM:- नॉर्थ ईस्ट पर हमारा फोकस है। अगरतला को ब्रॉड गेज से जोड़ा जाएगा।
12.17PM:मेक इन इंडिया दो लोकल फैक्ट्री खोली जाएंगी। इससे लोगों को रोजगार मिलेगा। पिछले साल 8720 करोड़ रुपए की बचत की गई। 2020 तक कोई भी लाइन बिना गार्ड के नहीं रहेगी।
12.15PM:हम ऐसे दौर में बेहतरी की कोशिश कर रहे हैं जिस दौर में दुनिया मंदी से गुजर रही है। हम जानते हैं कि रेलवे के काम में सुधार की काफी ज्यादा जरूरत है। इस पर सबसे ज्यादा फोकस किया जा रहा है।
12.12PM:अगर रेलवे के खर्च किए जा सके तो आमदनी और सुविधाएं बढ़ाई जा सकती हैं। हम इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में भी रेलवे का रोल बड़ा करना चाहते हैं। बजट में लागत कम करने के उपायों पर फोकस किया जा रहा है। 

12.10PM:हम चाहते हैं कि रेलवे 10 फीसदी ज्यादा मुनाफा कमाए। रेलवे में हर पैसे का हिसाब रखे जाने पर हमारा फोकस है। हमारा लक्ष्य 8720 करोड़ बचत का है। 
- 1.85 लाख करोड़ है ट्रेफिक रेवेन्यू टारगेट।
12.10PM: हम नए तरीकों से रेवेन्यू जनरेट करने की कोशिश करेंगे। इसके लिए रास्ते तलाशे हैं और भी तलाशे जाएंगे।
- हम इंटरनेशनल स्टैंडर्ड की सर्विस देने की कोशिश करेंगे। इसके लिए हर तबके की मदद भी चाहते हैं। नव उमंग, नव तरंग... हरिवंश राय बच्चन की कविता की एक लाइन पढ़ी। हम चाहते हैं कि रेलवे की आमदनी बढ़े ताकि सुविधाएं भी बढ़ाई जा सकें।
12.10PM:वाजपेयी की दो लाइनें बोलीं। विपदाएं आती हैं आएं- हम ना झुकेंगे और हम न रुकेंगे। चलो मिलकर कुछ करें।
12.07PM:रेल मिनिस्टर के रूप में मैंने देश के कई हिस्सों का दौरा किया। मुंबई के स्टेशन काफी साफ मिले। सोशल मीडिया पर पैसेंजर सेफ्टी को लेकर लोगों ने काफी तारीफ की है। (आगे की स्लाइड्स में देखें लाइव बजट स्पीच)
- हमने कई सेक्शन के सुझावों को बजट में शामिल किया है। रेलवे देश की बैक बोन की तरह है। यात्रियों की गरिमा, रेल की गति और देश की प्रगति हमारा फोकस है।
12.04PM:रेल बजट पेश कर रहे हैं सुरेश प्रभु।
11.30AM:सुरेश प्रभु संसद पहुंचे। 12 बजे पेश करेंगे बजट।
11.10AM:रेल भवन पहुंचे रेल मंत्री।
10.00AM: प्रभु ने कहा,''हर स्टेशन पर देंगे वाई-फाई। ''
9.40AM:रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा,'' मैं ड्राइविंग सीट पर जरूर हूं, लेकिन पूरी जनता मेरे साथ सफर कर रही है।''
9.40AM: रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा,''यह बजट सुधारों वाला होगा। जनता के हितों का ख्याल रखा जाएगा। ''
9.20AM: रेल बजट की कॉपियां संसद पहुंचीं।
- बजट में रेलवे के रिफॉर्म का पूरा रोडमैप होगा। रेल मंत्री नई प्रीमियम ट्रेनों का एलान कर सकते हैं। किराया बढ़ेगा या सर्विसेस पर सरचार्ज, इस पर सस्पेंस कायम है।
बजट फाइनल करते वक्त रेल मंत्री ने क्या कहा...
- बुधवार को रेल बजट 2016-17 को फाइनल करते वक्त प्रभु ने कहा कि यह बजट देश और रेलवे के हित में होगा।
- सातवें पे कमीशन की सिफारिशों को लागू करने की वजह से 32 हजार करोड़ रुपए का बोझ बढ़ेगा।
- इंडियन लाइफ इन्श्योरेंस और जापान इंटरनेशनल एजेंसी (जाइका) से मिले कर्ज के कारण करीब दस हजार करोड़ रुपए की अदायगी की जानी है। इसे बैलेंस किया जाएगा।
- इसके लिए बजट में रेवेन्यू के नए मॉडल पेश किए जाएंगे।
बिना किराया बढ़ाए 3 लाख करोड़ रुपए खींचने की तैयारी


- रेल बजट पैसेंजरों की जेब से तीन लाख करोड़ रुपए निकालेगा। मैनेजमेंट और पैकेजिंग की चकाचौंध में हो सकता है कि यह नजर नहीं आए। 
- मौजूदा फाइनेंशियल ईयर में रेलवे के रेवेन्यू में 3.77 पर्सेंट की कमी हुई है। यानी करीब 1 लाख 17 हजार करोड़ रुपए की। 
- इस वजह से ऑपरेटिंग रेशियो मैक्सिमम लेवल पर है। रेलवे को 92 पैसे खर्च करने पर 1 रुपए की इनकम हो रही है।
- बजट में हो सकता है कि किराया न बढ़े, लेकिन सरचार्ज बढ़ सकता है।


किस रास्ते है जेब काटने की तैयारी?


- पसंदीदा सीटों का सिलेक्शन करने, ट्रैवल डेट के आसपास कन्फर्म सीट लेने पर एक्स्ट्रा पेमेंट का ऑप्शन।
- टिकटों पर मिलने वाली छूटों में कमी की जा सकती है या उसके नियम कड़े बनाए जा सकते हैं। 
- कैटरिंग, कुरियर और लगेज सर्विस महंगी हो सकती है। 
- कुछ खास नई ट्रेनों की अनाउंसमेंट हो सकती है, पर ज्यादा फोकस नई ट्रेनों की जगह बोगियों की संख्या बढ़ाने पर हो सकता है।
रेल मिनिस्ट्री 26 लाख पेज कम छापकर बचाएगी 165 पेड़


- रेल मंत्रालय पेपरलेस वर्किंग को आगे बढ़ाने पर काम कर रहा है।
- इसी के तहत रेल बजट में 26 लाख पेज कम छापेगा।
- रेलवे की इस पहल से करीब पौने दो सौ पेड़ कटने से ही नहीं बचेंगे, बल्कि इससे रेलवे चार लाख रुपए की बचत भी करेगा।


रेलवे की पार्लियामेंट कैंटीन में सब्सिडी खत्म


- सब्सिडी खत्म हो जाने के बाद यहां खाने-पीने की चीजों के दाम दो से तीन गुना बढ़ गए हैं।
- संसद की कैंटीन का जिम्मा रेलवे के पास है। ये कैंटीन मीडिया और सांसदों के लिए रिजर्व है।
- पार्लियामेंट के रिसेप्शन बिल्डिंग की कैंटीन में अब खाने के लिए लोगों को अपनी जेब ज्यादा ढीली करनी पड़ रही है।
- जो चाय पहले दो रुपए की मिलती थी, उसकी कीमत अब छह रुपए हो गई है।
SOURCE - BHASKER

Follow by Email