TRAI के फैसले से निऱाश हुए Facebook के फाउंडर जकरबर्ग, कहा कोशिश नहीं छोड़ूगा



नेट निरपेक्षता पर भारतीय दूरसंचार नियामक ट्राई के फैसले पर निराशा जाहिर करते हुए फेसबुक के संस्थापक और प्रमुख मार्क जकरबर्ग ने कहा कि वे भारत और दुनिया में इंटरनेट संपर्क की बाधाओं को खत्म करने के लिए प्रयास करने से पीछे नहीं हटेंगे।

नेट निरपेक्षता पर भारतीय दूरसंचार नियामक ट्राई के फैसले पर निराशा जाहिर करते हुए फेसबुक के संस्थापक और प्रमुख मार्क जकरबर्ग ने कहा कि वे भारत और दुनिया में इंटरनेट संपर्क की बाधाओं को खत्म करने के लिए प्रयास करने से पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने कहा कि यह उनकी कंपनी का महत्त्वपूर्ण लक्ष्य है।
उन्होंने कहा- हम फैसले से निराश हैं लेकिन मैं निजी तौर पर यह बताना चाहता हूं कि हम भारत और दुनिया भर में इंटरनेट की संपर्क बाधाओं को खत्म करने के लिए काम कर रहे हैं। इंटरनेट डाट आर्ग की कई पहलें हैं और हम तब तक प्रयास करते रहेंगे जब तक हर किसी की इंटरनेट तक पहुंच सुनिश्चित नहीं हो जाती है।

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकार (ट्राई) के सोमवार के आदेश पर अपनी पहली प्रतिक्रिया में जकरबर्ग ने अपने फेसबुक पोस्ट में कहा- इंटरनेट डॉट आर्ग ने कई पहल किए हैं और हम इसके लिए तब तक प्रयास करते रहेंगे जब तक इंटरनेट तक सभी की पहुंच नहीं हो जाती है।
नेट निरपेक्षता का समर्थन करते हुए दूरसंचार नियामक ट्राई ने सोमवार को दूरसंचार कंपनियों को विभिन्न सामग्रियों के आधार पर इंटरनेट सेवाओं के लिए अलग-अलग दरें रखने से रोक लगा दी।

ट्राई का यह आदेश फेसबुक की विवादास्पद फ्री बेसिक्स और ऐसी अन्य योजनाओं के लिए बड़ा झटका है। विशेषज्ञों ने फेसबुक की फ्री बेसिक्स योजना की काफी आलोचना की थी जिनका आरोप है कि इससे लोगों की अपनी पसंदीदा इंटरनेट पहुंच पर लगाम लगती है।
जकरबर्ग ने कहा- भारत के दूरसंचार नियामक ने आज निशुल्क इंटरनेट मुहैया कराने से जुड़े कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है।

इससे इंटरनेट डॉट आर्ग की लोगों को इंटरनेट से जोड़ने की पहलों में से एक ‘फ्री बेसिक्स’ और अन्य संगठनों के उन कार्यक्रमों पर में रुकावट खड़ी हुई है। जकरबर्ग ने दावा किया कि दुनिया भर में इंटरनेट डाट आर्ग के जरिए फेसबुक के प्रयास के कई लोगों की जिंदगी बेहतर हुई है। उन्होंने कहा- भारत में इंटरनेट संपर्क बढ़ाना महत्त्वपूर्ण लक्ष्य है और हम प्रयास नहीं छोड़ेंगे क्योंकि भारत में एक लाख से अधिक लोगों के पास इंटरनेट की पहुंच नहीं है।

हम जानते हैं कि उन्हें जोड़ने से लोगों को गरीबी से बाहर निकाला जा सकता है, करोड़ों रोजगार पैदा किए जा सकते हैं और शिक्षा के मौकों का विस्तार किया जा सकता है। हम इन लोगों की परवाह करते हैें और इसीलिए हम उनसे जुड़ने के लिए इतने प्रतिबद्ध हैं।

गौरतलब है कि 38 देशों में 1.9 करोड़ से अधिक लोग फेसबुुक के विभिन्न कार्यक्रमों से जुड़े हैं। उन्होंने कहा- हमारा लक्ष्य दुनिया को और खुला और एक दूसरे से जुड़ा हुआ बनाना हैं। यह लक्ष्य बरकरार है और भारत के प्रति हमारी प्रतिबद्धता भी। दुनिया में हर किसी के पास इंटरनेट की पहुंच होनी चाहिए।

जकरबर्ग ने कहा- इसीलिए हमने कई पहलों के साथ इंटरनेट डॉट आर्ग पेश किया जिसमें सौर चालित विमानों, उपग्रहों और लेजर के जरिए नेटवर्क का विस्तार, फ्री बेसिक्स के जरिए मुफ्त डाटा पहुंच, एप के जरिए डाटा उपयोग घटाना और एक्सपे्रस वाय-फाय के जरिए स्थानीय उद्यमियों को सशक्त बनाना शामिल है।
Source - jansatta

Follow by Email