Kejriwal के मोहल्ला क्लीनिक का दीवाना हुआ अमेरिका!




America में लोगों को आसान स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए Kejriwal के Mohalla Clinic से सबक लेने के सुझाव दिए जा रहे हैं

New Delhi, Mar 12 : अमेरिकी मीडिया हाउस The Washingtonpost ने एक लेख प्रकाशित किया है जिसमें दिल्ली में Kejriwal सरकार की शुरू की गई Mohalla Clinic की जबरदस्त तारीफ की गई है और अमेरिका को सलाह दी गई है कि वो अपनी जर्जर स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने और लोगों को बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए दिल्ली के इन Mohalla Clinic से सबक ले।

Washingtonpost में प्रकाशित लेख में Rupandeep Kaur नाम की एक महिला के इलाज का उदाहरण देकर समझाया गया है कि दिल्ली के इन Mohalla Clinic में कितनी बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधाएं दी जाती हैं और वो भी फ्री। Washingtonpost लिखता है किRupandeep Kaur नाम की एक गर्भवती महिला गंभीर हालत में दिल्ली के पीरागढ़ी इलाके में एक Mohalla Clinic में अपने चेकअप के लिए पहुंची थीं।

मोहल्ला क्लीनिक में Rupandeep Kaur से नाम, पता पूछे जाने के बाद उन्हें एक महिलाPhysician के पास भेजा गया जिन्होंने कुछ पूछताछ के बाद Blood और Urine समेत कई तरह की जांच के लिए लिखा। जांच में पता चला कि Rupandeep का गर्भ तो ठीक है लेकिन उनका हीमोग्लोबीन और Blood pressure level खतरनाक स्तर तक कम है।Alka Choudhry नाम की Physician ने फौरन एंबुलेंस बुलवाई और उन्हें पास के अस्पताल भेजा।

Mohalla Clinic में हुई मेडिकल जांच समेत इस पूरी प्रक्रिया में करीब 15 मिनट का वक्त लगा। क्लीनिक में आने से लेकर परामर्श और मेडिकल जांच, उनका विश्लेषण और एंबुलेंस से भेजने तक की पूरी प्रक्रिया कंप्यूटराइज्ड थी। यहां तक कि जिस अस्पताल मेंRupandeep को भेजा गया वहां भी उनके Medical Records को Electronically ही देख लिया गया, कागजी कार्रवाई की कहीं जरूरत नहीं पड़ी, ना तो मरीज को कोई बिल दिया गया और ना ही इंश्योरेंस कंपनी को भेजा गया। कहीं भी किसी तरह की देरी नहीं हुई और सबसे बड़ी बात सबकुछ फ्री में हुआ।

Rupandeep Kaur को जिस अस्पताल में भेजा गया वहां से इलाज के बाद उसी दिन छुट्टी दे दी गई। उनकी हालत ऐसी थी अगर समय पर सही इलाज नहीं हुआ होता तो उनका Miscarriage भी हो सकता था और जान को भी खतरा हो सकता था।Washingtonpost में ये लेख लिखने वाले Vivek Wadhwa कहते हैं कि उन्होंने इस तरह की अत्याधुनिक सुविआएं पश्चिम के देशों में भी नहीं देखीं। वो तेजी की तारीफ करते हुए लिखते हैं कि इसी मार्च में पीरागढ़ी के इस क्लीनिक में बिताए गए एक घंटे के वक्त में ही करीब दर्जन भर अन्य मरीजों को भी इलाज मुहैया कराया गया।

दिल्ली में Mohalla Clinics की शुरूआत July, 2015 में मुख्यमंत्री Arvind Kejriwal ने की थी। केजरीवाल ने दिल्ली के करोड़ों लोगों को सस्ता और अच्छा इलाज तुरंत मुहैया कराने के लिए 1000 Mohalla Clinics खोले जाने का ऐलान किया था। ऐसे क्लीनिक खोलने का विचार दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री Satyendar Jain का था, वो कहते हैं कि इससे लोगों को न सिर्फ अच्छा इलाज मिला है, बल्कि कुल स्वास्थ्य खर्च में भी कमी आई है, क्योंकि अब लोगों को वक्त पर ही सही इलाज मिल जाता है और इससे अस्पतालों केEmergency rooms में भीड़ नहीं बढ़ती।

बीमारियों की पहचान और शरीर की जांच के लिए इन मोहल्ला क्लीनिकों में जिस उपकरण का इस्तेमाल किया जाता है उसे ‘स्वास्थ्य स्लेट’ नाम दिया गया है। 600 डॉलर के इस छोटे से उपकरण से 33 Medical Tests हो सकते हैं जिनमें ब्लड प्रेशर, शुगर, दिल की धड़कन, हीमोग्लोबीन, पेशाब, प्रोटीन की जांच भी शामिल है। इसके अलावा इससे मलेरिया, डेंगू, हेपेटाइटिस, एचआईवी और टाइफाइड जैसी बीमारियों का भी पता चल जाता है। हर एक जांच में एक से दो मिनट का समय लगता है और इसके बाद रिकॉर्ड कोCloud-based medical-record management system में भेज दिया जाता है, जहां से जब चाहें इसे लिया जा सकता है।
स्वास्थ्य स्लेट एक Mobile kit है जिसे Arizona State University के Kanav Kahol नाम के Biomedical Engineer ने विकसित किया है। कण्व इस बात से बेहद निराश थे कि दुनिया में करोड़ों लोगों को सिर्फ इसीलिए अच्छा इलाज नहीं मिल पाता है क्योंकि वो महंगे टेस्ट नहीं करा पाते हैं। वो इसी का समाधान तलाशने के लिए 2011 में अपने घर दिल्ली लौटे थे। आखिरकार जनवरी 2013 में वो उसे बनाने में सफल रहे जिसे बनाने में वो दिन रात लगे हुए थे, उन्होंने इसे नाम दिया स्वास्थ्य स्लेट। स्वास्थ्य स्लेट का शुरूआत में इस्तेमाल जम्मू-कश्मीर में किया गया। 2014 में सरकार ने वहां इसे आधिकारिक रूप से लॉन्च किया। अब इसके उन्नत संस्करण पर भी काम चल रहा है और उसे HealthCube कहा जा रहा है।

दिल्ली में मोहल्ला क्लीनिक्स की कामयाबी से प्रभावित Washingtonpost लिखता है अमेरिका में Affordable Care Act के बावजूद कुल आबादी के लगभग 10.4 फीसदी या 3 करोड़ 30 लाख लोगों के पास अब भी Health Insurance की सुविधा नहीं है, ये लोग अमेरिका का बाकी समाज की तुलना में काफी गरीब हैं और महंगा इलाज नहीं करा सकते। Washingtonpost सुझाव देता है कि ये बहुत सही वक्त है कि अमेरिका के शहरों में दिल्ली की Kejriwal सरकार की तर्ज पर मोहल्ला क्लीनिक बनाए ताकि लोगों को सस्ता और अच्छा इलाज मिल सके

SOURCE - indiatrendingnow

Follow by Email