मोदी से मिलने पहुंचे APPLE के CEO, iPhone पर PM ने क्या कमेंट किया?


मोदी से मिलने पहुंचे APPLE के CEO, iPhone पर PM ने क्या कमेंट किया?


नई दिल्ली. एप्पल के सीईओ टिम कुक ने शनिवार को नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। कुक भारत में सेकेंड हैंड iPhones बेचने की इजाजत चाहते थे, लेकिन जब वे 7RCR पहुंचे तो मोदी ने उनसे मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट का जिक्र कर दिया। बताया जाता है कि मोदी ने कुक से कहा कि एप्पल यहां यूज्ड फोन्स बेचने की बजाय नए फोन यहीं मैन्युफैक्चर करने पर सोचे। दोनों ने इस मौके पर ‘नरेंद्र मोदी मोबाइल ऐप’ का अपडेटेड वर्जन भी लॉन्च किया। प्रोग्राम शेड्यूल की नहीं दी जानकारी...

- कुक ने पीएम का वही गोल्ड आईफोन देखा, जिसके जरिए मोदी आम चुनाव के दौरान वडोदरा में वोटिंग के बाद सेल्फी लेकर विवादों में आए थे। इस सेल्फी को मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट के खिलाफ माना गया था।
- मोदी ने कुक से मुलाकात के बाद एक पोस्ट शेयर की।
- इसमें उन्होंने लिखा, ''मुझे यह शेयर करते हुए खुशी हो रही है कि मिस्टर टिम कुक ने नरेंद्र मोदी मोबाइल ऐप का अपडेटेड वर्जन लॉन्च किया है। शुक्रिया मिस्टर कुक। इस अपडेटेड वर्जन में नया वॉलन्टियरिंग नेटवर्क है। मैं आप लोगों से गुजारिश करता हूं कि ऐप का नया फीचर माय नेटवर्क देखें।''
- ''इस फीचर के जरिए आप इस एनरिच करने वाले प्लैटफॉर्म पर अपने आइडियाज शेयर कर सकेंगे। दूसरों के साथ बातचीत कर सकेंगे। आप इसके जरिए डेली टास्क को भी एन्जॉय कर सकेंगे।''
- मोदी से मुलाकात के साथ ही कुक का चार दिन का भारत दौरा खत्म हो गया।

रिजेक्ट हो चुका है यूज्ड फोन को इम्पोर्ट करने का प्लान

- भारत इस महीने की शुरुआत में एप्पल के यूज्ड फोन को इम्पोर्ट करने के प्लान को रिजेक्ट कर चुका है।
- यही वजह है कि दुनिया की सबसे बड़ी फोन बनाने वाली यह कंपनी अपने फ्लैगशिप स्मार्टफोन की सेल को बढ़ाने के लिए अपने सेल प्लान को रिवाइव करना चाहती है।
- एप्पल ने अपने आईफोन पर यूएस सहित कई देशों में डिस्काउंट का भी ऑफर दिया है।

सिर्फ 2% है एप्पल का मार्केट शेयर

- अभी भारत में एप्पल का मार्केट शेयर महज 2% है। लेकिन इस साल के शुरुआती तिमाही आंकड़ों के मुताबिक भारत में उसकी सेल 56 फीसदी बढ़ी है।
- कंपनी ने पिछले महीने तिमाही नतीजा पेश किया, जिसमें अपनी इनकम 50.6 अरब डॉलर दिखाई। यह एक साल पहले के 58 अरब डॉलर से कम है।
- इसी तरह, कंपनी का तिमाही फायदा भी एक साल पहले के 13.6 अरब डॉलर से घट कर 10.5 अरब डॉलर हो गया है।

इन मुद्दों पर हुई बात

-मोदी और कुक के बीच भारत में एक यूथ टैलेंट पूल बनाने पर बातचीत हुई। इसके अलावा सायबर सिक्युरिटी और डाटा एन्क्रिप्शन जैसे अहम सवाल भी एजेंडा का हिस्सा थे।
- एक बयान में कहा गया है, “कुक ने एप्पल के भारत में फ्यूचर के बारे में प्राइम मिनिस्टर से बात की। एप्पल प्रोडक्ट्स की मैन्यूफैक्चरिंग और रिटेलिंग पर भी बातचीत हुई।”
यह मीटिंग मोदी के ऑफिशियल रेसीडेंस 7 आरसीआर पर हुई।
कुक-मोदी की यह दूसरी मुलाकात

- कुक और मोदी के बीच यह दूसरी मुलाकात है। वे मोदी की अमेरिका विजिट के दौरान भी उनसे मिल चुके हैं।
- सितंबर 2015 में सिलिकॉन वैली में कुक और मोदी की मुलाकात काफी पॉजिटिव बताई गई थी।
- एप्पल भारत में सस्ते आईफोन लॉन्च करने की भी प्लानिंग कर रहा है।

अपने ही स्टोर में मिला फेक कवर

- शुक्रवार को कुक गुड़गांव में एप्पल के एक स्टोर में पहुंचे। जानकारी के मुताबिक, उन्हें स्टोर में एक आईफोन कवर दिखा जो उनके मुताबिक कंपनी का ओरिजनल प्रोडक्ट नहीं था। कुक इस पर नाराज हो गए और उन्होंने स्टोर के स्टाफ से इस पर सफाई मांगी। सूत्रों के मुताबिक, सीईओ को लगा कि इस तरह का कलर और पैकेजिंग अमेरिका या शायद दूसरे देशों मे भी सप्लाइ नहीं की जाती। 
- हालांकि, एप्पल के किसी अफसर ने इस घटना की पुष्टि नहीं की है।

टॉप एग्जीक्यूटिव्स की टीम के साथ आए हैं कुक

- कुक अपने साथ 5 टॉप एग्जीक्यूटिव की टीम लाए हैं।
- इस टीम में एप्पल के चीफ ऑपरेटिंग अफसर जेफ विलियम भी शामिल हैं।
- गुरुग्राम के एक एप्पल के स्टोर में मीडिया से बातचीत में कुक ने बताया, ''स्टोर में मैंने जो कुछ देखा, उससे बहुत खुश हूं।''
- कुक ने कहा, "कंपनी भारत में तेजी से चलने वाले वायरलेस कम्युनिकेशन नेटवर्क को बढ़ाना चाहती है।"
- कुछ दिन पहले टीवी चैनल सीएनबीसी के साथ बातचीत में कुक ने माना था कि इंडिया एक बड़ा बाजार है।
- कुक ने कहा था "इंडिया एक यंग कंट्री है। वहां लोग स्मार्टफोन रखना चाहते हैं।"
- उन्होंने कहा कि भारत जैसे उभरते बाजारों में चौथी पीढ़ी का वायरलेस नेटवर्क इस वक्त नहीं के बराबर है। पर यहां इसी साल से इसे बढ़ावा देना शुरू कर दिया जाएगा। इसके साथ वहां के बाजार की स्पीड बदल जाएगी।
- कुक ने कहा कि इंडिया जिस तरह से बदल रहा है, वहां एप्पल के लिए काफी अच्छा मार्केट है।

चीन से अलग है इंडिया

- चीन के बारे में पूछने पर कुक ने कहा, ''भारत चीन से बहुत अलग है। मैं उसे ऐतिहासिक नजरिए से देखता हूं। भारत एक डिप्लोमैटिक कंट्री है।"
- उन्होंने कहा कि भारत में रिटेल मार्केट के लिए एप्पल का फ्यूचर काफी अच्छा है। हम भारत में एक लंबी पारी खेलने की सोच रहे हैं। 
- कुक मार्च 1998 में एप्पल से जुड़े थे। 24 अगस्त, 2011 को उन्हें स्टीव जॉब्स के बाद कंपनी का सीईओ बनाया गया।
SOURCE - BHASKER

Follow by Email