कटनी के SP का ट्रांसफर रुकवाने सड़कों पर उतरा शहर, हवाला कारोबार की कर रहे थे जांच

SP Gaurav Tiwari,Supporters, controversy, opposition, transfer, charge, rush
500 करोड़ का हवाला कारोबार पकड़ने वाले कटनी एसपी गौरव तिवारी के समर्थन में आए लोग।
भोपाल. मध्य प्रदेश के कटनी के एसपी गौरव तिवारी के सपोर्ट में मंगलवार को पूरा शहर सड़कों पर उतर आया। लोग तिवारी का ट्रांसफर रद्द करने की मांग कर रहे थे। तिवारी का ट्रांसफर कटनी से छिंदवाड़ा कर दिया गया है। वे एक्सिस बैंक समेत कई बैंकों में फर्जी खातों से 500 करोड़ के हवाला लेनदेन की जांच कर रहे थे। तिवारी कटनी में 6 महीने ही पोस्टेड रहे। पूरा कटनी बंद रहा...
- गौरव तिवारी के सपोर्ट में पूरा कटनी शहर बंद रहा।
- यहां के सुभाष चौक पर हजारों की तादाद में लोग इकट्ठा हुए। पूरा बाजार भी बंद रहा। लोगों ने तिवारी का ट्रांसफर रद्द करने की मांग की।
- कटनी में किसी पार्टी या संगठन ने नहीं बल्कि आम जनता ने ही बंद बुलाया था। इसमें व्यापारी वर्ग से लेकर सभी लोग शामिल थे।
कांग्रेस ने जेटली को लिखा लेटर
- प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने अरुण जेटली को लेटर लिखकर गौरव तिवारी के ट्रांसफर का मुद्दा उठाया है। यादव ने लिखा कि इस हवाला कांड में जिस बीजेपी नेता का नाम सामने आ रहा है, उसकी जांच कराई जाए।
- राज्य के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि प्रोसेस के तहत ही यह ट्रांसफर किया गया है। वो बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। उनकी जरूरत छिंदवाड़ा में हैं। हवाला मामले की जांच चल रही है।
- वहीं डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला ने कहा कि गौरव तिवारी मध्य प्रदेश का गौरव हैं। ट्रांसफर तो एक प्रोसेस है, जो होनी थी। कानून के हाथ बहुत लंबे हैं। जो दोषी पाया जाएगा, उस पर कार्रवाई होगी।
- पूर्व MLA किशोर समरीते ने तिवारी के मामले में PMO और अमित शाह को लेटर लिखा है। उन्होंने संजय पाठक को मंत्री पद से हटाने की मांग की है।
-इस बीच सागर में आयोजित BJP की कार्यसमिति की बैठक में शामिल होने पहुंचे उच्च शिक्षा राज्य मंत्री संजय पाठक ने मीडिया से चर्चा करते हुए 'हवाला कांड' के आरोपों को निराधारा बताया। साथ ही उन्होंने कहा कि गौरव तिवारी एक ईमानदार पुलिस अफसर हैं। उनको छिंदवाड़ा की कमान सौंपी गई है।
इसलिए हुआ तिवारी का ट्रांसफर
- तिवारी एक्सिस बैंक समेत कई बैंकों में फर्जी खातों से 500 करोड़ रुपए के हवाला लेन-देन की जांच कर रहे थे।
- तिवारी ने इस हवाला कारोबार की जांच के लिए एक एसआईटी का गठन किया था।
- 4 जनवरी को एसआईटी की जांच में घोटाले के सबसे बड़े सूत्रधार सरावगी बंधुओं के नाम सामने आए थे। इनके चार नौकरों के नाम से कई बोगस कंपनियां बनाई गईं थीं।
- इन बोगस कंपनियों के खातों से करीब 100 करोड़ रुपए के संदिग्ध लेन-देन की बातें सामने आ चुकी हैं।
- 6 जनवरी तक सरावगी के दो नौकर संदीप बर्मन और संजय तिवारी को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने पूछताछ में सरावगी के राज्य सरकार में मंत्री संजय पाठक के रिश्तेदारों से नजदीकियों की बात बताई थी।
- बता दें कि तिवारी को हटाकर उनकी जगह सीएम सिक्युरिटी में लंबे समय तक एसपी रहे (मौजूदा देवास एसपी) शशिकांत शुक्ला को कटनी का एसपी बनाया गया है।
सरावगी फरार, मिनी ट्रक भरकर डॉक्युमेंट्स बरामद
- मामले के बाद सरावगी बंधु इसके बाद फरार बताए जा रहे हैं। उनके यहां से एक मिनी ट्रक भरकर डॉक्युमेंट्स बरामद किए गए हैं।
- इससे पहले भी तिवारी ने बालाघाट एसपी रहते हुए लकड़ी माफिया के खिलाफ जंग छेड़ी थी, जिसमें वहां के तब कलेक्टर रहे वी किरण गोपाल पर भी आरोप लगे थे।
- इसके बाद किरण गोपाल को सरकार ने बालाघाट कलेक्टर पद से हटा दिया गया था।
- कुछ समय बाद ही तेजतर्रार अफसर गौरव तिवारी का ट्रांसफर कर कटनी एसपी बनाया गया था। - BHASKAR

Follow by Email