जनजातीय छात्रों को उच्‍च शिक्षा प्राप्‍त करने के लिए सहायता

जनजातीय कार्य मंत्रालय ‘अनुसूचित जनजातियों के छात्रों के लिए राष्‍ट्रीय अध्‍येतावृत्ति और छात्रवृत्ति’ योजना के अंतर्गत चिन्ह्ति उत्‍कृष्‍ट संस्‍थाओं में इंजीनियरिंग, सूचना प्रौद्योगिकी आदि जैसे क्षेत्रों में स्‍नातक/स्‍नातकोत्‍तर स्‍तर की उच्‍च शिक्षा प्राप्‍त करने वाले अनुसूचित जनजातियों के छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करता है। इस योजना के अंतर्गत वित्‍तीय सहायता सीधे लाभार्थियों और संबंधित संस्‍थाओं को उपलब्‍ध कराई जाती है। उच्‍च शिक्षा प्राप्‍त करने के लिए ‘अनुसूचित जनजातियों के छात्रों को उच्‍च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति’ (जिसे पहले शीर्ष श्रेणी की शिक्षा के नाम से जाना जाता था) के तहत पिछले तीन वर्षों और चालू वर्ष के दौरान जारी धनराशि तथा झारखंड और गुजरात सहित देशभर में कवर किये गये लाभार्थियों का विवरण निम्‍नलिखित है :-

 (लाख रूपये में)
2014-152015-162016-172017-18 (7.8.17 तक)
जारी धनराशिलाभा‍र्थीजारी धनराशिलाभा‍र्थीजारी धनराशिलाभा‍र्थीजारी धनराशिलाभा‍र्थी
1849.8518501552.321017687.75490506.80552
उपरोक्‍त योजना के अंतर्गत कवर किये गये शीर्ष श्रेणी के संस्‍थानों के अलावा अनुसूचित जनजातियों के छात्रों के लिए पोस्‍ट मैट्रिक छात्रवृत्ति (पीएमएस) योजना में स्‍नातक और स्‍नाकोत्‍तर स्‍तरीय पाठ्यक्रमों के लिए सभी इंजीनियरिंग, विज्ञान, मेडिकल कॉलेज शामिल हैं।  पोस्‍ट मैट्रिक छात्रवृत्ति (पीएमएस) योजना के अंतर्गत पिछले तीन वर्षों और चालू वर्ष के दौरान अनुसूचित जनजाति के छात्रों के लिए झारखंड और गुजरात सरकारों को जारी धनराशि का विवरण निम्‍नलिखित है :- 
             (लाख रूपये में)
राज्‍य2014-152015-162016-172017-18 (7.8.17 तक)
जारी धनराशिलाभा‍र्थीजारी धनराशिलाभा‍र्थीजारी धनराशिलाभा‍र्थी (अनंतिम)जारी धनराशि
गुजरात3929.23 2185705520.4016398922040.2719232212626.74
झारखंड4927.23 81768--8148.39630291292.50

‘अनुसूचित जनजाति के छात्रों के लिए विदेश में पढ़ने हेतु राष्‍ट्रीय ओवरसीज छात्रवृत्ति’ योजना के अंतर्गत यह मंत्रालय विदेश में प्रत्‍यायित विश्‍वविद्यालय/संस्‍थान में उच्‍च शिक्षा प्राप्‍त करने के लिए चुनिंदा छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करता है। चुनिंदा छात्रों को विदेश में पढ़ाई में सहायता प्रदान करने के लिए मंत्रालय द्वारा उन्‍हें जरूरी दस्‍तावेजों और अन्‍य जरूरतों के बारे में उचित सलाह दी जाती है।
यह जानकारी केन्‍द्रीय जनजातीय कार्य राज्‍य मंत्री श्री जसवंतसिंह भाभोर ने आज राज्‍यसभा में एक प्रश्‍न के लिखित उत्‍तर में दी।

Follow by Email