e-Filing Income Tax Returns – Date Extended till O...

EMPLOYEE NEWS CENTER: e-Filing Income Tax Returns – Date Extended till O...: e-Filing Income Tax Returns – Date Extended till October 31st – The tax payers base in the country is just over 4 crore. The government ai...

Indrani Mukerjea attempts suicide inside Byculla jail; condition critical but stable

Indrani was on anti-epileptic pills since September 11
Indrani Mukerjea

Former television honcho Indrani Mukerjea, the prime accused in the Sheena Bora murder case, allegedly attempted suicide by excessively consuming pills inside the Byculla women's prison, according to doctors at Sir JJ hospital, where she was admitted on Friday afternoon.

"Indrani was brought to the hospital at 2 pm. She was unconscious. We are treating her for poisoning," said Dr TP Lahane, the dean of Sir JJ group of hospitals. He confirmed that Indrani was on anti-epileptic pills since September 11. "We are not sure if she had consumed all the pills together. The stomach wash has been sent to Kalina FSL for forensic analysis," said Dr Lahane.

अमर होने का सूत्र खोजने के करीब पहुंचे वैज्ञानिक!

नई दिल्ली। अमरता विज्ञान के समक्ष हमेशा से एक जटिल चुनौती रही है। रूस के एक वैज्ञानिक का दावा है कि करीब 35 लाख साल पुराने बैक्टीरिया को शरीर में प्रविष्ट कराने के बाद से उन्हें किसी तरह की बीमारी नहीं हुई और वह खुद को ज्यादा मजबूत अनुभव कर रहे हैं। मॉस्को स्टेट यूनिवर्सिटी के जियोक्रायोलॉजी विभाग के वैज्ञानिक डॉ. अनातोली ब्रचकोव ने साइबेरिया के बर्फीले इलाकों से वर्ष 2009 में बैसिलस एफ बैक्टीरिया की खोज की थी।
यह बैक्टीरिया बर्फीली चट्टानों में लाखों सालों से जीवित है। इसके बाद वैज्ञानिकों ने चूहों और मानव कोशिकाओं पर इस बैक्टीरिया के साथ प्रयोग किया। इसके प्रभाव से बूढ़े हो चुके चूहों में प्रजनन क्षमता भी वापस लाना संभव हो सका है। प्रयोग के दौरान ही ब्रचकोव ने अपने शरीर में इस बैक्टीरिया को प्रविष्ट कराया।
उन्होंने कहा, "ऐसा करने के बाद दो साल से मुझे कोई फ्लू नहीं हुआ है। मैं ज्यादा काम करने लगा हूं और मजबूत अनुभव कर रहा हूं।" ब्रचकोव ने कहा, "यह बैक्टीरिया शरीर पर कैसे काम करता है, हमें यह नहीं पता है लेकिन हम इसका प्रभाव देख सकते हैं।" उन्होंने कहा कि अगर हम यह जानने में सक्षम हो सके कि आखिर यह बैक्टीरिया कैसे खुद को जीवित रखता है, तो निश्चित तौर पर इससे मनुष्यों की उम्र को बढ़ाना संभव हो सकता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि धरती पर कई ऐसे सूक्ष्मजीव हैं जो अमर हैं। इन जीवों की कोशिकाएं हर परिस्थिति में खुद को बचाने में सक्षम होती हैं।
मिले हैं और भी बैक्टीरिया
इन बर्फीले इलाकों से कुछ और बैक्टीरिया भी मिले हैं, जिनमें आश्चर्यजनक गुण हैं। इनमें से एक बैक्टीरिया पेट्रोलियम अणुओं को तोड़कर पानी में तब्दील करने में सक्षम है। वहीं दूसरा बैक्टीरिया सेलुलोज अणुओं को विघटित कर सकता है।
SOURCE - JAGARAN

6 माह में दिया 85 बच्चों को जन्म


असम के गुवाहाटी में एक महिला के पिछले 6 महीने में 85 बच्चों को जन्म देने का मामला सामने आया है। यह वाकया असम के एक सरकारी अस्पताल का है। वहां यह महिला बतौर नर्स कार्य करती है।

दरअसल सुरक्षित प्रसूति को बढ़ावा देने के लिए हर गर्भवती महिला जो इस सरकारी अस्पताल में इलाज करवाएगी उसे सरकार की तरफ से 500 रुपये दिये जाएंगे। बस फिर क्या था नर्स लिली बेगम लस्कर ने इस मौके का फायदा उठाया।
अधिकारियों के मुताबिक इस सरकारी अस्पताल में 160 डिलीवरी दर्शायी गयी। इसमें से 85 मामलों में उसने खुद को ही गर्भवती के तौर पर पेश किया। इस सरकारी योजना का फायदा उठाते हुए, लिली ने 40 हजार रुपये कमाये।
सूत्रों के मुताबिक राजधानी गुवाहाटी से 350 किमो दूर करीमगंज जिले के एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी सरफराज हक के अनुसार जैसे ही उनको अस्पताल से किसी बेनाम व्यक्ति ने इस बारे में सूचना दी उसके बाद उन्होंने वहां जाकर मुआयना किया। जांचकर्ता ये जानकर चौंक गये कि इस महिला ने 85 फर्जी प्रसव अपने नाम पर लिख रखे थे।
सरफराज के अनुसार भुगतान का काम भी यही नर्स संभाल रही थी इसलिए उसे ऐसा फर्जी काम करने में ज्यादा परेशानी भी नहीं हुई लेकिन यही वजह थी कि वह आसानी से पकड़ में भी आ गई। 17 सितंबर को नर्स लिली को नौकरी से निलंबित कर दिया गया। लिली ने कहा कि हम जैसी नर्र्सों पर बहुत दबाव होता है। हम जो काम करते हैं हमें उसके मुताबिक पैसा नहीं मिलता। इसलिए मैंने ऐसा किया, मुझे इसका अफसोस है।
SOURCE - m.jagran

Pakistan PM Nawaz Sharif, PM Modi wave at each other at UN peacekeeping summit


AFP

Assembling for the Leaders' Summit on Peacekeeping being hosted by US President Barack Obama, Modi walked into the conference hall first. Sharif followed a few minutes later and waved at Modi. The Indian Prime Minister waved back and smiled.

Amid a chill in bilateral relations, waving at each other was all that Prime Minister Narendra Modi and his Pakistani counterpart Nawaz Sharif did on Monday as they attended the UN peace keeping summit.

Assembling for the Leaders' Summit on Peacekeeping being hosted by US President Barack Obama, Modi walked into the conference hall first. Sharif followed a few minutes later and waved at Modi. The Indian Prime Minister waved back and smiled.

Then there was a pause, after which Modi waved again and Sharif acknowledged and smiled.


The two leaders, who are in New York for UN summits, came across each other for the first time today.

Decoding the data: Bihar’s Muslim vote, oscillating between diversity and uniformity

A survey shows that over 60 per cent Muslims (including OBC Muslims) went with the Congress-RJD alliance, while 21 per cent went with the JD(U). Muslims, as was expected, overwhelmingly rejected the BJP. (Source: Express file photo)

By Hilal Ahmed

There are two features that politically distinguish the Muslims of Bihar. They participate in all kinds of political processes while retaining their socio-religious identities. Although this form of political participation is not exclusively Bihar-centric as Muslims in other parts of India, too, are actively involved in various kinds of politics, the enthusiasm with which politics as a sanctified activity is imbibed in the cultural universe of Muslim communities of Bihar is certainly unique. Secondly, the upsurge of Pasmanda politics in the 1990s, which raised the question of internal power structures among Muslims, has transformed the debate on affirmative action in the country. Thus, it is imperative to ask: do Muslims vote as a political community in Bihar?

Follow by Email